बरसात और ह्यूमिडिटी कई तरह के त्वचा संक्रमणों के जोखिमों को बढ़ा देती है , जाने ! इनसे कैसे बचना है?

Barish And Humidity Ke Mousam Me Tvacha Sakraman Se Bachav Ke Upay: क्या आपको भी बरसात में खाज, खुजली और इरिटेश जैसी त्वचा संबंधी समस्याएं होती हैं, तो इस दौरान आपको अपनी त्वचा पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है। इस लेख में हम आपको इसके कुछ प्रभावी और खास टिप्स बता रहें है।

बरसात का यह मौसम अपने साथ नमी और ह्यूमिडिटी लेकर आता है। बरसात के मौसम में हर जगह बैक्टीरिया एवं फंगस पनपना शुरू हो जाते हैं, जिसकी वजह से कई प्रकार के इंफेक्शन का खतरा बढ़ जाता है। उनमें से स्किन इन्फेक्शन एक आम समस्या है, इसलिए बरसात के मौसम के दौरान जितना हो सके उतना सावधानी बरतने की कोशिश करें। बरसात के मौसम में अलग-अलग प्रकार के स्किन इन्फेक्शन का खतरा होता है, इनमें से सबसे ज्यादा खुजली की समस्या है। इसके अलावा त्वचा पर रैशेज, बम्प्स,घमोरियाँ इत्यादि होने का खतरा बढ़ जाता है।

आइये जानते है! बरसात में होने वाली स्किन संबंधी समस्यायों के कारण

Monsoon Season May Trigger Skin Infection know How To Protect Your Skin:-

  • बरसात में बढ़ते ह्यूमिडिटी के कारण फंगल इन्फेक्शन, रिंगवॉर्म, स्किन रैशेज और इरिटेशन का खतरा बढ़ जाता है।
  • डायबिटीज के मरीजों को इस दौरान अधिक देखभाल की सलाह दी जाती है, क्योंकि बरसात में उनकी त्वचा के संक्रमित होने का खतरा अधिक होता है।
  • वहीं दूसरी ओर बरसात में त्वचा अधिक ऑयली हो जाती है, जिसकी वजह से स्किन ब्रेकआउट होने लग जाती है ओर इससे चहरे पर पिंपल जैसी समस्याएं होने लगती है।

बरसात में त्वचा संक्रमण से बचाव के लिए कुछ महत्वपूर्ण टिप्स, 5 Quick Ways To Avoid Fungal Issues During Humid Weather

Barish And Humidity Ke Mousam Me Tvacha Sakraman Se Bachav Ke Upay: अभी बारिश का मौसम है, ओर हर व्यक्ति गर्म पेय और पकौड़ों का आनंद लेना चाहता है, लेकिन यह बरसात का मौसम अपने साथ त्वचा संबंधी कई बीमारियाँ लेकर आता है।
बारिश से होने वाली नमी से हमारी त्वचा काफी ज्यादा चिपचिपी हो जाती है आपको अपनी त्वचा को मानसून के हानिकारक प्रभावों से बचाने के लिए इन स्टेप का पालन करना चाहिए-

1. डाइट पर विशेष ध्यान दें

  • एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर खाद्य पदार्थ त्वचा की समस्याओं को रोकने में बहुत मदद करते हैं।
  • इस दौरान मौसमी फलों और सब्जियों के साथ-साथ पानी का भी भरपूर सेवन करें।
  • लस्सी, नींबू पानी या नारियल पानी पीने से आपका शरीर ठंडा रहेगा।
  • उच्च प्रोटीन और कम कार्बोहाइड्रेट युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन त्वचा को प्रोटेक्ट करते हुए बालों को मजबूती प्रदान करेगा।

यह भी पढ़ें :- नींबू पानी पीने के फायदे व नुकसान

2. हाइजीन पर विशेष ध्यान दें

  • दिन कम से कम दो बार जरूर नहाएं खासकर यदि आप ह्यूमिड एरिया में रहते है तो।
  • उच्च आर्द्रता होने के कारण पसीना अधिक आता है।
  • जिससे फंगल संक्रमण, गर्मी के चकत्ते, पसीने से होने वाला सूजन, खाज -खुजली आदि हो सकती है।
  • त्वचा एवं बालों पर अतिरिक्त प्रदूषकों के जमा होने से रूसी और मुहांसे में भी वृद्धि होती है।
  • यदि आपको बतायी जानकारी से किसी भी समस्या का अनुभव कर रहे हैं तो जितनी जल्दी हो सके त्वचा विशेषज्ञ से परामर्श लें।

3. क्लींजिंग, मॉइस्चराइजिंग, सनस्क्रीन(Cleansing, Moisturizing, Sunscreen)

  • ये तीन उपाय हर मौसम में महत्वपूर्ण हैं, लेकिन मानसून के दौरान ये अधिक उपयोगी हो जाते हैं|
  • क्योंकि अत्यधिक नमी त्वचा को अधिक तैलीय बना सकती है, जिससे आपको त्वचा से संबंधी संक्रमण हो सकते है।
  • दिन में 2-3 बार सैलिसिलिक एसिड बेस्ड क्लींजर का उपयोग करें।
  • अपने चेहरे को दिन में तीन बार से अधिक न धोए, क्योंकि इससे चहरे पर सूखापन या तैलीयपन अधिक हो सकता है।
  • दिन में कम से कम दो बार अपनी त्वचा पर मॉइस्चराइज़र का उपयोग करें।
  • इस मौसम में आपका सबसे अच्छा दोस्त सनस्क्रीन हो सकता है। सनस्क्रीन का उपयोग करें।
  • इसे प्रतिदिन पर्याप्त मात्रा में तीन या अधिक बार सनस्क्रीन का प्रयोग करें। पूरे चेहरे और गर्दन तक सनस्क्रीन का प्रयोग करें.

4. मेकअप प्रोडक्ट्स का भी ध्यान रखें

  • चहरे पर पाउडर या पानी आधारित मेकअप चुनें।
  • ऑयल युक्त मेकअप का उपयोग करने से बचें क्योंकि नमी और पसीने के बाद यह चिपचिपा हो जाता है, रोम छिद्र बंद हो सकते हैं और मुहांसे पैदा हो सकते हैं।
  • रात को सोने से पहले अपने चहरे का मेकअप हटा लें.

5. शूज और ज्वेलरी पर भी ध्यान दें

  • नकली आभूषण पहनने से बचें क्योंकि पसीना आने पर केमिकल रिएक्शन हो सकता है।
  • हमेशा ऐसे जूते पहनना याद रखें जो आपकी त्वचा को सांस लेने दें ताकि पसीना आपके पैरों को संक्रमित न कर सके।

पिम्पल्स को प्राकृतिक रूप से हटाने के उपाय

FAQ

Q 1. बरसात के मौसम में बीमारियों से बचाव कैसे करें?

Ans. बरसात के मौसम में पब्लिक टॉयलेट इस्तेमाल करने से बचें|
हमेशा हाथ धोकर ही खाना खाएं| 
बच्चों का डायपर बदलने के बाद गर्म पानी से हाथ धोएं|
बाहर से आए फलों और सब्जियों को अच्छे से धोएं|

Q 2. बरसात के दिनों में चेहरे पर क्या लगाएं?

Ans. बरसात के मौसम में आपको मॉइश्चराइजर जरूर इस्तेमाल करना चाहिए. आप हल्का लाइटवेट नॉन ग्रेसी मॉइश्चराइजर लगा सकते हैं.

Q 3. बारिश के पानी से चेहरा धोने से क्या होता है?

Ans. सुबह उठकर इस पानी से चेहरा धोने पर त्वचा का रंग भी साफ होता है
त्वचा की झांइयां और दाग धब्बे भी मिट जाते हैं।
इतना ही नहीं इसका प्रयोग आप पेडीक्योर के लिए कर सकते हैं, यह कमाल का असर करता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *