Silent Heart Attack: जानें क्या होता है साइलेंट हार्ट अटैक, जो बिना दर्द-बिना संकेत ले सकता है किसी की भी जान

Silent Heart Attack: आजकल, कई बार सुनने में आता हैं किसी की अचानक से मृत्यु हो गई हैं, चाहें वह आम व्यक्ति हो या प्रसिद्ध| बाद में मौत के कारण जाना जाता हैं तो पता चलता हैं कि ऐसा हार्ट अटैक के कारण हुआ हैं| चिंताजनक बात यह है क्योंकि ऐसे लोग भी बीमार हो रहे हैं जिनमें पहले हृदय संबंधी किसी समस्या का कोई लक्षण नहीं था। यहां तक ​​कि युवा भी बीमार हो रहे हैं|

एक अध्ययन के अनुसार तकरीबन 45 फ़ीसदी हार्ट अटैक के कोई लक्षण नहीं होते हैं। ऐसे अटैक्स को साइलेंट हार्ट अटैक की श्रेणी में रखा जाता है। कभी-कभी लोगों को बिना पता चले भी दिल का दौरा पड़ सकता है। इसे साइलेंट हार्ट अटैक कहा जाता है क्योंकि इसमें सीने में दर्द जैसे कोई संकेत या लक्षण नहीं होते हैं। भले ही यह शांत है, फिर भी यह बहुत खतरनाक है और अगर इसका तुरंत इलाज न किया जाए तो यह एक बड़ी समस्या हो सकती है।

क्या होता है, साइलेंट हार्ट अटैक?

साइलेंट हार्ट अटैक को मेडिकल की भाषा में साइलेंट मायोकार्डियल इन्फ्रेक्शन (silent myocardial infarction) कहते हैं| साइलेंट हार्ट अटैक होने पर सीने में कोई दर्द महसूस नहीं होता जबकि आम दिल के दौरे में सीने में दर्द होता है। कभी-कभी, लोगों को पता भी नहीं चलता कि साइलेंट हार्ट अटैक हुआ है क्योंकि इसके कोई स्पष्ट संकेत नहीं होते हैं। लेकिन उन्हें अपने शरीर में कुछ अन्य अजीब चीजें घटित होती हुई महसूस हो सकती हैं।

अक्सर साइलेंट हार्ट अटैक से पहले और बाद में व्यक्ति एकदम सामान्य होता हैं| जिसके कारण दूसरा हार्ट अटैक खतरनाक हो सकता है| यदि समस्या का समय पर पता नहीं लगाया गया और इलाज नहीं किया गया, तो यह जीवन के लिए खतरा भी हो सकता है।

साइलेंट हार्ट अटैक में दर्द क्यों नहीं महसूस होता हैं?

स्वास्थ्य विशेषज्ञों का कहना है कि कभी-कभी मस्तिष्क को दर्द के संकेत भेजने वाली नसों या रीढ़ की हड्डी (स्पाइनल कॉर्ड) में भी समस्या हो सकती है। इसके अलावा, कभी-कभी किसी व्यक्ति के मस्तिष्क को यह एहसास नहीं होता है कि उन्हें दर्द महसूस हो रहा है। ऑटोनोमिक न्यूरोपैथी एक ऐसी स्थिति है जिसके कारण वृद्ध लोगों या मधुमेह वाले लोगों को दर्द महसूस नही होता है।

साइलेंट हार्ट अटैक के लक्षण (Silent Heart Attack Symptoms)

  1. पेट की समस्या या पेट ख़राब होना
  2. बिना किसी कारण सुस्ती और कमजोरी महसूस होना।
  3. थोड़ा सा काम करनते ही थकान महसूस होना|
  4. अचानक ठंडा पसीना आना|
  5. अचानक और बार-बार सांस फूलना|

साइलेंट हार्ट अटैक के प्रमुख कारण –

इस तरह के अटैक के मुख्य कारण इस प्रकार हैं-

  • ज्यादा ऑयली, फैटी और प्रोसेस्ड फूड खाना
  • फिजिकली एक्टिव न होना
  • शराब और सिगरेट ज्यादा पीना
  • डायबिटीज और मोटापा की वजह से
  • ज्यादा तनाव या टेंशन
  • अनहेल्दी लाइफस्टाइल 
  • नींद पूरी ना होना 
  • एक्सरसाइज ना करना
  • हाई ब्लड प्रेशर,हाई शुगर लेवल
  • हाई कोलेस्ट्रॉल लेवल

साइलेंट हार्ट अटैक से बचाव

  1. जितना हो सके सलाद और सब्जियां खाएं।
  2. रोजाना व्यायाम, योग और सैर करें।
  3. सिगरेट और शराब से बचें।
  4. खुश और अच्छे मूड में रहें।
  5. तनाव और टेंशन से बचने की कोशिश करें।
  6. नियमित जांच कराएं|

डेंगू बुखार: आइये जानते हैं डेंगू के कारण, लक्षण तथा बचाव के उपायों के बारे में

Health Tips: बदलते मौसम में ऐसे रखें अपनी सेेहत का खास ख्याल, बरते थोड़ी सी सावधानी और कभी नहीं होंगे बीमार

माइग्रेन सिरदर्द: आइये जानते हैं माइग्रेन के कारण, उपचार, प्रकार और लक्षणों के बारे में|

अनियमित पीरियड्स: अनियमित मासिक धर्म के कारण, लक्षण और घरेलू उपचार

1 Comment

Add a Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *